Paid Advise

Accused husband collecting false evidence in murder case

Shivendra Pratap Singh

Advocate (Lucknow)

Online advising since Oct. 2014

Criminal Law

Reading Time:

मेरे बहन का पति झूठे साक्ष्य एकत्र कर रहा है जिससे की वो अपने आप को हत्या के मुक़दमे में बचा सके। उसने दिनाँक १८ मार्च २०१४ को अपने पत्नी की हत्या कर दी। उसका अपने मित्र की पत्नी से अबैध सम्बन्ध था। वो उसपर काफी पैसा लूटता था। उसको अपने घर में भी रखता था। उसका दोस्त भी सेना में सिपाही था और वो दुसरे जगह तैनात था।वो मेरी बहन तो अपने घर पर छोड़ देता था और कभी भी साथ रखने को तैयार नहीं था। मेरे बहन के स्वसुर को ये बात पता चला तो वो मेरे बहन को अनपे साथ लेकर बेटे के पास गए। उसे काफी डाँटा – समझाया, काफी दबाव बनाने पर वो मेरे बहार को साथ रखने को तैयार हो गया। 

किन उसके ४ महीने बाद १८ तारीख की रात को मार डाला। मेरे पिता ने FIR लिखाया। मुक़दमे की पैरवी में वो कुछ झूठे सबूत ले आया है , की उस रात वो मिलिट्री अस्पताल में भर्ती था, उसका इलाज चल रहा था आदि। वो सेना में है तो हो सकता है की वो और भी सबूत ले आये और बच जाये। ऐसे में क्या मुझे न्याय मिलेगा ?

Accused तो प्रयास करता है की वो किसी तरह बच जाये। लेकिन अंत में न्याय तो मिलता ही है। आपके केस में कुछ तथ्य है जो आपको पूरा न्याय दिलाएंगे। आपकी बहन की मृत्यु औसे पति के घर में हुआ है। और उनके पति ही हत्या का अभियुक्त है। ऐसे में अभियुक्त को धारा १०६ साक्ष्य विधि के तहत साबित करना पड़ेगा की कैसे उसकी पत्नी की मृत्यु हुई। उसने आत्महत्या किया या हादसे से मरी। postmortem रिपोर्ट से पता चल जाता है की मृत्यु का कारन क्या है।

Postmortem में दिए गए डॉक्टर के राय का न्यायालय द्वारा उपधारणा किया जायेगा। यदि डॉक्टर की राय है की हत्या किया गया था तो उसको नासाबित करने का भर अभियुक्त पर आ जायेगा। यदि वो साबित नहीं नहीं कर पाता है तो उपधारणा किया जायेगा की उसने हत्या किया है क्योकि वो उस समय घर पर उपस्थित था।

  • अस्पताल में भर्ती वाले तथ्य को साबित करने का कारण साक्ष्य विधि की धारा ११ के द्वारा ये साबित करना है की वो घटना वाले स्थान पर नहीं था। जिसको साबित करना इतना आसान नहीं है। वो दिखाना चाहता है की घटना के दिन वो अस्पताल में भर्ती था तो केवल कहने मात्र से बात नहीं बनेगा। उसे साबित करना पड़ेगा कीकिस डॉक्टर से इलाज हुआ था 
  • उसे कौन सी बीमारी थी और क्या उस बीमारी में भर्ती करना आवश्यक था  
  • किस डॉक्टर ने भर्ती होने को लिखा थाकौन सी दवा दी गयी थी 
  • उस समय अस्पताल में और कौन से मरीज भर्ती थे, उनका भी बयान होगा।

यदि वो भर्ती नहीं था तो साबित करना आसान नहीं होगा। उसे ढेर सारे झूठे सबूत लाना पड़ेगा जो वो नहीं ला पाएगा । अंत में आपको न्याय जरूर मिलेगा।

0 Comments

shivendra pratap singh advocate

Shivendra Pratap Singh

Advocate (Lucknow)

You can consult on Criminal, Civil, Matrimonial, Writ, Service matters, Property, Revenue and RERA related issues.

More For you

Quashing of first information report (FIR)

Question: I want the quashing of the first information report (FIR). A false first information report FIR has been lodged against me by the university. There are three students who are working on a project in association with me. I am the senior most of them hence,...

Threatening woman on revealing the truth to family 

Question: A man is threatening a woman on revealing the truth to her family. I'm a husband. I'm writing this for my wife. She had an affair with a person and she also helped him with money in his difficult time without informing me. Few days back she apologised...

In 498A, will my family get arrested?

Question: In 498A, will my family get arrested? My wife has filed a false case against my family. She wanted to marry her friend but due to pressure from her father she married me. There is no fault from my side but due to the whim of my wife my family is facing...

Can I file a complaint against the family court?

Question: Can I file a complaint against the family court? Asked from: Kerala You can file a complaint against the sitting subordinate court judge for his misconduct or dishonest conduct in dealing lawsuits. But you must have credible and clinching evidence to prove...

Section 383 Indian Penal Code: Extortion

Section 383: Extortion Whoever intentionally puts any person in fear of any injury to that person, or to any other, and thereby dishonestly induces the person so put in fear to deliver to any person any property or valuable security or anything signed or sealed which...

My sister is being mental harassed by her ex-boyfriend 

Question: My sister was in a relationship for 7 yrs and after that she decided to part ways with boyfriend due to some issues. My sister is being mental harassed by her ex-boyfriend. She was informed this in 2020 and after that asked him not to contact him. He visited...

Kanoonirai has been advising in legal issues since October 2014. You can consult a lawyer through online media, telephonic consultation and video conferencing.

Contact

mail[at]kanoonirai.com
+91-91400-4[nine][six]54