Accused husband collecting false evidence in murder case

t

Question asked on: 29/10/2015

मेरे बहन का पति झूठे साक्ष्य एकत्र कर रहा है जिससे की वो अपने आप को हत्या के मुक़दमे में बचा सके।  उसने दिनाँक १८ मार्च २०१४ को अपने पत्नी की हत्या कर दी।  उसका अपने मित्र की पत्नी से अबैध सम्बन्ध था।  वो उसपर काफी पैसा लूटता था।  उसको अपने घर में भी रखता था।  उसका दोस्त भी सेना में सिपाही था और वो दुसरे जगह तैनात था।

वो मेरी बहन तो अपने घर पर छोड़  देता था और कभी भी साथ रखने को तैयार नहीं था।  मेरे बहन के स्वसुर को ये बात पता चला तो वो मेरे बहन को अनपे साथ लेकर बेटे के पास गए।  उसे काफी डाँटा – समझाया, काफी दबाव बनाने पर वो मेरे बहार को साथ रखने को तैयार हो गया।  

लेकिन उसके ४ महीने बाद १८ तारीख की रात को मार डाला।  मेरे पिता ने FIR  लिखाया।  मुक़दमे की पैरवी में वो कुछ झूठे सबूत ले आया है , की उस रात वो मिलिट्री अस्पताल में भर्ती था, उसका इलाज चल रहा था आदि।  वो सेना में है तो हो सकता है की वो और भी सबूत ले आये और बच जाये।  ऐसे में क्या मुझे न्याय मिलेगा ?

 

Advised by: Shivendra Pratap Singh,

Accused  तो प्रयास करता है की वो किसी तरह बच जाये।  लेकिन अंत में न्याय तो मिलता ही है। आपके केस में कुछ तथ्य है जो आपको पूरा न्याय दिलाएंगे।  आपकी बहन की मृत्यु औसे पति के घर में हुआ है। और उनके पति ही  हत्या का अभियुक्त है। ऐसे में अभियुक्त को धारा १०६ साक्ष्य विधि के तहत साबित करना पड़ेगा की कैसे उसकी पत्नी की मृत्यु हुई। उसने आत्महत्या किया या हादसे से मरी।  postmortem रिपोर्ट से पता चल जाता है की मृत्यु का कारन क्या है।

Postmortem में दिए गए डॉक्टर के राय का न्यायालय द्वारा उपधारणा किया जायेगा। यदि डॉक्टर की राय है की हत्या किया गया था तो उसको नासाबित करने का भर अभियुक्त पर आ जायेगा। यदि वो साबित नहीं  नहीं कर पाता  है  तो उपधारणा किया जायेगा की उसने हत्या किया है क्योकि वो उस समय घर पर उपस्थित था।

अस्पताल में भर्ती वाले तथ्य को साबित करने का कारण साक्ष्य विधि की धारा ११ के द्वारा ये साबित करना है की वो घटना  वाले स्थान पर नहीं था। जिसको साबित करना इतना आसान नहीं है। वो दिखाना चाहता है की घटना के दिन वो अस्पताल में भर्ती था तो केवल कहने मात्र से बात नहीं बनेगा। उसे साबित करना पड़ेगा की:

  • किस डॉक्टर से इलाज हुआ था 
  • उसे कौन सी बीमारी थी और क्या उस बीमारी में भर्ती करना आवश्यक था  
  • किस डॉक्टर ने भर्ती होने को लिखा थाकौन सी दवा दी गयी थी 
  • उस समय अस्पताल में और कौन से मरीज भर्ती थे, उनका भी बयान होगा।

यदि वो भर्ती नहीं था तो साबित करना आसान नहीं होगा। उसे ढेर सारे झूठे सबूत लाना पड़ेगा जो वो नहीं ला पाएगा । अंत में आपको न्याय जरूर मिलेगा।

Ask Your Question

Shivendra Pratap Singh

Advocate, Lucknow

Advice: 17493

Consultation: 3402

POCSO: School principal did not report the offence

I am principal of inter college. One day peon of the college committed rape on a student of class eleven. Her father reported the incident to me on the same day and asked to file FIR. I thought that it might disrepute our institution, therefore, trying to compromise...

Relief in domestic violence case

My wife has filed a false case under the domestic violence act. She made me all family members as accused. However, no specific allegation was made against my family members, but she made a specific accusation against me. She asserted that I had abandoned her after...

Cunning wife demanding money

want to get your kind advise in what to do in a case of my cousin who is facing huge harassment from his wife. He is only 12 pass out , living in Amritsar along with parents and was working in CHINA and married to a girl who is DIPLOMA in nursing and jobless at the...

Government filed criminal case after 13 years of my retirement

The government of Bihar has filed a criminal case against me under section 420/467/468/471/409/201/120-B IPC for granting illegal licenses to some traders of Bihar in the discharge of my official duties. It was the regime of Lalu Yadav when the government frequently...

Police officer refuses to register FIR of my lost mobile phone

My father went on a morning walk, and he didn’t know where he dropped his mobile. After an hour when he found that his phone is misplaced, he called on his number, but after one ring someone denied the call and put it in switch off mode. From then the phone is in...

quick Advice

Get A Quick Advice

Book an appointment for 15 minutes and consult with an expert over the phone within minutes

Talk to Advocate Shivendra

Book a phone consultation for 30 minutes and get solid advice on the phone

Book it Now